शेखपुराशेखोपुरसराय

Muder: दो मौत की पूरी कहानी!! दादा की हत्या का बदला लेने गोली मार कर की हत्या, अपनी भी जान चली गयी..

शेखपुरा/शेखोपुरसराय

थाना क्षेत्र के महेश स्थान चौक से थोड़ी दूर पर ही बुधवार की सुबह कबीरपुर निवासी सौरभ कुमार उर्फ जितेंद्र यादव की गोली मारकर हत्या कर दी गई। दादा के हत्या का बदला लेने के लिए गणित यादव ने इस हत्याकांड को अंजाम दिया जबकि मामले में घायल गणित यादव की भी मौत हो गयी।

पुलिस कप्तान ने दी जानकारी

इस मामले में संवाददाता सम्मेलन कर जानकारी देते हुए पुलिस कप्तान दयाशंकर ने सारे मामले का खुलासा किया। उन्होंने इस मामले में त्वरित कार्रवाई करने और खदेड़ कर अपराधी को पकड़ने के लिए थानाध्यक्ष पवन कुमार झा को पुरस्कृत करने की बात भी कही। हत्या का पूरा मामला खुल कर सामने आ गया। हत्या के मामले में मुख्य साजिशकर्ता की भी मौत हो गई। सभी अपराधी 18 से 20 वर्ष की उम्र के आसपास के थे। इसी मामले में अपराधी विकास कुमार और भरत कुमार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

रोते बिलखते मृतक की पत्नी

जमीन विवाद में हुई थी 2003 में हत्या

गणेश यादव के दादा विनोद यादव की हत्या 2003 में ही कर दी गई थी। इसी मामले में आज गोली मारकर जिसकी हत्या की गई उसी जितेंद्र यादव को नामजद अभियुक्त बनाया गया था। बाद में सामाजिक पहल पर मामले में सुलह हो गया था। इसी का बदला लेने के लिए आज यह हत्या की गई।

मौके पे बरामद बाइक

हथियार भी हुआ बरामद

इसी मामले में पुलिस के द्वारा पकड़े गए अपराधियों के पास से हथियार भी बरामद की गयी। पुलिस ने अपराधियों के पास से तीन पिस्तौल, तीन जिंदा कारतूस, तीन खाली कारतूस, तीन छोटा कारतूस और बाइक बरामद किया।

आंगनबाड़ी बना हत्या की वजह

बुधवार को आंगनबाड़ी सेविका का चयन किया जाना था। इसी पद के लिए जितेंद्र यादव की पत्नी एक नंबर पर थी। जितेंद्र यादव के भाई धर्मेंद्र यादव ने बताया कि आज हुई हत्या का मुख्य कारण आंगनबाड़ी का चयन है। जितेंद्र यादव की पत्नी को सेविका बनने से रोकने के लिए यह हत्या की गई। इसका एक कारण दूसरे नंबर पर हत्या करने वाले परिवार की अभ्यर्थी का होना है।

घटना स्थल पे मौजूद पुलिस

दोस्तों ने ही कर दी गणित यादव की हत्या

जितेंद्र यादव की हत्या कर भाग रहे गणित यादव को जब स्थानीय लोगों ने खदेड़ा तो बाइक दुर्घटना का शिकार होकर गड्ढे में पलट गयी। इसमें गणित यादव सर्वाधिक जख्मी हुआ। लोगों की भीड़ देख गणित यादव के एक साथी उसको घायल अवस्था मे कंधे पर लेकर भागने लगा। इसी क्रम में जब कुछ लोग उसके पास आने लगे तो गणित यादव को सड़क पर ही बेरहमी से पटक दिया। जिससे वह अधिक जख्मी हो गया। घायल गणित को अस्पताल ले जाया गया जहां उसने दम तोड़ दी।

स्थानीय लोग कहते है कि गणित यादव की हत्या उसके दोस्तों ने इसलिए कर दी ताकि वह किसी के नाम का खुलासा करे।

%d bloggers like this: